हिंदी में कहानी उपन्यास के विषयों पर विमर्श

स्त्री -पुरुष सम्बन्ध सदियों से कहानियों का प्रिय, प्रमुख विषय रहा है। प्रेम प्रधान, काम प्रधान, विषाद प्रधान या वियोग प्रधान, छल प्रधान या इनके फैले कैनवास में कहीं के भी रंग या इनकी मिलती काटती बाउंड्रीज के रंग अक्सर ही आपको मिलेंगे। जो भावनाओं, अनुभवों को पकड़ने वाला जितना अच्छा चितेरा , उतना ही आनन्द वो पाठक को देता है।
एक कविता प्रेम पर लिखना आसान है पर किसान पर लिखना कठिन। पर इससे हमारा धरातल छोटा हो जाता है।हमारे अनुभव सीमित हैं और रिसर्च को हम तवज़्ज़ो नही देते। इसलिए कोरी भावनात्मकता के सहारे या वासना के सहारे हम अपनी नैया पार करना चाहते हैं।
कहानी उपन्यास खत्म होने के बाद एक खुशनुमा अहसास तो दे देते हैं, पर वो कोई उद्वेलना नही करते , या आपको कोई खास जानकारी भी नही देते।मात्र मनोरंजन ही साध्य नही।इस दिशा में #भगवंत अनमोल की ज़िन्दगी 50 -50 एक नया धरातल लेकर आई थी। और #सत्य व्यास की 84 में रोचकता के साथ काफी जानकारियां भी मिलीं जो लेखक ने रिसर्च से जुटाया होगा।

लेखकीय मौलिकता में कमी नही है परन्तु शोध से उसमे ऐसी जानकारियों का मिश्रण बढ़ाया जा सकता है जो पाठक के लिए take away सिद्ध होंगे। यहां मकसद take away देना नही , बल्कि पाठक को मानसिक स्तर पर भोजन देना भी है। लेखक केवल दिल बहला के इतिश्री नही कर सकता।

कृतियों में टेक्निकल,दार्शनिक, लीगल,मेडिकल, मेडिकोलीगल,राजनैतिक तम्माम अन्य प्रधानता से बढ़ें तो वैरायटी आएगी और शायद हिंदी का उद्धार भी होगा।

मैं ऐसी चिंता कर रहा हूँ पर सम्पूर्ण रूप में मैंने भी अभी ऐसा कुछ किया नही है। मेरा पहला कहानी संग्रह दर्द माँजता है काफी विषयों पर डील करता है और अगला आने वाला संग्रह भी ऐसा होगा। पर मुझ से एक टेक्निकल मनोरंजक उपन्यास की अपेक्षा की जा सकती है।

कोशिश रहेगी।

  1. You actually make it seem so easy with your presentation but I find this matter to be really something which I think I would never understand. It seems too complex and extremely broad for me. I’m looking forward for your next post, I’ll try to get the hang of it!

  2. A lot of thanks for all of the work on this blog. My mom loves making time for investigation and it is obvious why. I learn all relating to the compelling means you convey priceless thoughts on the website and in addition foster response from the others on that theme then my princess is always being taught a lot of things. Take advantage of the rest of the year. You’re carrying out a powerful job.

  3. I simply needed to thank you so much again. I’m not certain what I could possibly have worked on in the absence of the entire advice documented by you concerning my situation. It was actually an absolute frightening dilemma for me, nevertheless taking note of the very expert approach you handled that forced me to weep with delight. Extremely happier for the information and thus wish you realize what an amazing job your are undertaking instructing other individuals with the aid of your blog post. Most probably you haven’t met any of us.

  4. I am just commenting to let you understand what a amazing discovery my friend’s child gained visiting the blog. She noticed numerous pieces, including what it’s like to have an ideal teaching nature to have the mediocre ones really easily learn about selected specialized topics. You truly exceeded our expectations. Thanks for giving those necessary, healthy, informative and even fun tips on that topic to Mary.

  5. I just wanted to jot down a small comment to be able to say thanks to you for those pleasant secrets you are placing at this website. My considerable internet research has at the end been paid with really good knowledge to exchange with my close friends. I ‘d repeat that we readers actually are unquestionably blessed to dwell in a magnificent place with so many special people with valuable tips and hints. I feel extremely lucky to have come across your entire website and look forward to some more awesome times reading here. Thank you again for a lot of things.

Leave a Reply

Your email address will not be published.