भाषा , व्याकरण ,वर्तनी और साहित्य

अक्सर ही देखता हूँ कि लेखन और भाषा ज्ञान की एक सार्थक बहस चल रही है। कुछ लोग हमेशा भाषा सम्प्रेषण का माध्यम है, साहित्य वस्तु है जो सम्प्रेषित होनी है। भाषा वस्त्र है, साहित्य शरीर और आत्मा है।Creativity एक ईष्वर प्रदत्त उपहार है, जिसको एक्सप्रेस करने के लिए हम भाषा का सहारा लेते हैं,…

हिंदी में कहानी उपन्यास के विषयों पर विमर्श

स्त्री -पुरुष सम्बन्ध सदियों से कहानियों का प्रिय, प्रमुख विषय रहा है। प्रेम प्रधान, काम प्रधान, विषाद प्रधान या वियोग प्रधान, छल प्रधान या इनके फैले कैनवास में कहीं के भी रंग या इनकी मिलती काटती बाउंड्रीज के रंग अक्सर ही आपको मिलेंगे। जो भावनाओं, अनुभवों को पकड़ने वाला जितना अच्छा चितेरा , उतना ही…

Education in India

Education Education is getting so costly. Why are we not doing anything for this? Private institution brings lot of glamour , low salary to its teachers. And Government set up brings good salary but poor quality with itself. Government schools are not getting adequate students despite MDM , free uniform etc . Infrastructure in these…

Matter of oft experience

पुराना_अनुभव ये भी किसी विज्ञान के नियम की तरह ही है। बात पुरानी, पर हर बार नई लगती है। जब भी कोई व्यक्ति नया काम शुरू करता है, तो एक समय तक उसे कोई घास नही देता। वह दिन रात फिक्र में घूमता है, पर काम नही मिलता जब तक कि कोई उसे आज़माने का…

किताबों के पाठक

पाठकबनाम रसिक 100 रुपये से 200 रुपये किसी व्यक्ति के लिए आजकल नगण्य रकम हो गयी है। फ़िल्म देखने मे 500 रूपये खर्च हो जाते हैं। परंतु मैने देखा है कि किसी को यह कह दो कि मेरी किताब खरीद कर पढ़ लेना, तो आदमी हाँ कह कर भी नही करता है। मेरी समझ से…

Reading Habbits

पाठकबनाम रसिक 100 रुपये से 200 रुपये किसी व्यक्ति के लिए आजकल नगण्य रकम हो गयी है। फ़िल्म देखने मे 500 रूपये खर्च हो जाते हैं। परंतु मैने देखा है कि किसी को यह कह दो कि मेरी किताब खरीद कर पढ़ लेना, तो आदमी हाँ कह कर भी नही करता है। मेरी समझ से…

Postulates of social media

रणविजय के सोशल मीडिया के नियम: 1. सोशल मीडिया पर दिया हुआ आपका समय आपके खालीपन और पॉपुलैरिटी की चाहत के समानुपाती है 2. सोशल मीडिया की चम्बकत्व शक्ति का मान = ( कुल समय- निहायत ज़रूरी समय)x लाइक्स की चाहतx एक कांस्टेंट 3. सोशल मीडिया पर आपका अस्तित्व आपके दूसरों को लाइक देने के…

सापेक्षता सिद्धांत जीवन मे

सापेक्षता(Relativity) का सिद्धांत आइंस्टीन ने 20वीं सदी के पहले दशक में दिया था।गणित विज्ञान सब आकर जीवन के फलसफा पर भी फिट बैठते हैं। इसलिए बड़े वैज्ञानिक और गणितज्ञ दर्शनशास्त्री भी हुए । न्यूटन का नाम इसमें प्रमुखता से लिया जा सकता है। बहरहाल, जीवन की सापेक्षता की बात करते हैं। कुछ साधारण उदाहरण 1.…

Policy favours

Competition improves quality and price. Socialist conuntry must look at shrinking competitions in some businesses and money proliferation by these businessmen. # Having a PSU competitor in many sectors will be beneficial in long run for public at large. Privatisation will lead to cartelisation.   0 0 0