Postulates of social media

रणविजय के सोशल मीडिया के नियम: 1. सोशल मीडिया पर दिया हुआ आपका समय आपके खालीपन और पॉपुलैरिटी की चाहत के समानुपाती है 2. सोशल मीडिया की चम्बकत्व शक्ति का मान = ( कुल समय- निहायत ज़रूरी समय)x लाइक्स की चाहतx एक कांस्टेंट 3. सोशल मीडिया पर आपका अस्तित्व आपके दूसरों को लाइक देने के…

सापेक्षता सिद्धांत जीवन मे

सापेक्षता(Relativity) का सिद्धांत आइंस्टीन ने 20वीं सदी के पहले दशक में दिया था।गणित विज्ञान सब आकर जीवन के फलसफा पर भी फिट बैठते हैं। इसलिए बड़े वैज्ञानिक और गणितज्ञ दर्शनशास्त्री भी हुए । न्यूटन का नाम इसमें प्रमुखता से लिया जा सकता है। बहरहाल, जीवन की सापेक्षता की बात करते हैं। कुछ साधारण उदाहरण 1.…

Policy favours

Competition improves quality and price. Socialist conuntry must look at shrinking competitions in some businesses and money proliferation by these businessmen. # Having a PSU competitor in many sectors will be beneficial in long run for public at large. Privatisation will lead to cartelisation.  

Nathu Ram Godse -new age hero

#गोडसे कल फेसबुक पर बहुत जगह गोडसे साहब की महिमा, विचारधारा पर चर्चा और बहस सुनी।कुछ लोगों ने उन्हें भारत को गांधी से आज़ाद कराने वाला बताया। कुछ ने इतिहासकारों को बिके हुए भांड, टुटपुँजिये , टुच्चे चरित्र बताया, या हमारी संस्कृति की विकृत दिखाने वाले पाश्चात्य इतिहासकार बताया। कुछ ने अब नया शुद्ध इतिहास…

Happy New year-2019

वर्ष के आखिरी दिन हिसाब लगाने भर का भी वक्त नही है। ज़िन्दगी ने एकदम से 100 मीटर वाली दौड़ में स्प्रिंट करना शुरू कर दिया है और उसमें ज़रूरत से ज़्यादा हर्डल भी लगा दिए हैं नौसिखिए के लिए। बीता वक्त कुछ रूमानी, कुछ कड़वा अनुभवों भरा रहा। एक सर्जनात्मक पुस्तक लिख पाना एक…

मेरा गांव मेरा देश

इस बार गांवों में घूमते हुए , बढ़ते शहरीकरण ने परेशान किया। जो सबसे ज़्यादा दुखदायी था वो घने जंगलों और बागों का गायब होना या विरल होना। तालाबों का गायब होना। मेरा बचपन अपने, नानी के, और बुआओ इत्यादि के गांवों में कई कई दिन रह कर बीता।पढ़ाई , इंजीनियरिंग,नौकरी के चक्कर मे बहुत…

यही फैशन है..

गांवों की यही रवायत है। या तो ताश होगा या पंचायत। आजकल नया फैशन चौराहेबाज़ी का भी है। युवाओं को क्या चाहिए, एक कैनवास जूता जो रीबॉक या एडिडास का हो, एक रंगीन हुड वाली t शर्ट, एक जीन्स , एक मोटर साईकल और सवसे ज़रूरी एक और आवारा दोस्त।पुकार, राज दरबार, दिलबाग कॉन्फिडेंस दिलाते…

पुरानी गली से

कुछ गांव की धरती से। बुआ के बेटे की शादी में आया था। आलू की सेल्हियां,आंख निकलते पौधे, छोटा छोटा खोंट कर मीच कर तुरंत खा सकने वाला चना और उसका हल्का खट्टा और हर्राया सा स्वाद, खड़े -पड़े गन्ने के खेत, ईंटों के बने मकान बिना प्लास्टर, बिना किसी नफासत के बिस्तर, टेंट जो…

‘Vanchit’ first story from my book ‘dard manjta hai’

वंचित ऐसा पहली बार नहीं हो रहा था, पिछले 2-4 बर्षो में यह रीतापन उसे बार बार महसूस होने लगा था । अशोका होटल के बार में एक कोने में 4 दोस्त आज फिर बैठे थे, अंधेरी रोशनी तथा धुएं से सुगन्धित माहौल में। बार की नियति में अंधेरें में रहना ही है। रूक रूक…