• Book 3

    Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3Book 3


  • Book 2

    Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2Book 2


  • Dard Majhata hai

    इस संग्रह में लगभग समाज का हर चेहरा मौजूद है। ‘मेरे भगवान’ में सामाजिक मूल्यों का विकास है, वंशी लाल जैसा भोला चरित्र है, वहीं ‘छ्द्म’ में रंजीत दत्त के छल , खल की पराकाष्ठा है। लातूर भूकम्प के भयावह विभीषिका के दर्द के बीच मे विश्वास और प्रेम का नन्हा बीज उगता है, ‘दर्द माँजता है’ में, परन्तु ‘एक तेरा ही साथ’ मे नायक के विश्वास का हनन हो जाता है और ततपश्चात प्रेम की उदारता और उदात्त स्वरूप दिखता है। ‘वंचित’ का नायक अपने ऐश और मौज के लिए जो व्यूह रचता है, उस मे वो अपने को स्वयं फंसा हुआ पाता है।…..